Recent Posts


WiFi Ka Full Form WiFi का सबसे अच्छी वाईफ़ाई सुविधाएँ इतिहास

दोस्तों आपने wifi का नाम तो सुना ही होगा।  क्या आपको पता है wifi ka full form क्या होता है। क्या आपने कभी सोचा की wifi का इतिहास क्या है और ये wifi काम कैसे करता है।  और ये आज के  दौर में ये wifi सभी छेत्रों में इतना लोकप्रिय क्यों हुआ।  अगर आप wifi के बारे में विस्तार से जानकारी चाहते है।  तो हमारे Post में अंत तक बने रहे। 


    wifi ka full form 

    wifi का फुल फॉर्म Wireless Fidelity  हिंदी में इसे वायरलेस फिडेलिटी कहते है। ज्यादातर हमने mobile में Hotspot On करके wifi का आंनद उठाते है।  

    WiFi Ka Full Form
    WiFi Ka Full Form

    और smartphone से ही Hotspot On करके दूसरे फ़ोन smart Tv laptop में wifi कनेक्ट करके इस नेटवर्क  का आनद लेते है। चलिए शुरू करते है wifi क्या है। 

    Wifi क्या है ? (What is WiFi)


    इस Technology के माध्यम से, हम आज अपने स्मार्टफोन कंप्यूटर लैपटॉप में बिना किसी तार के Internet की सुविधा प्राप्त करते हैं।

    इस Technology के माध्यम से, आप और आप हमेशा सीमित स्थान के भीतर Internet से जुड़ सकते हैं। आजकल हर कोई वाई-फाई के जरिए Internet एक्सेस करना पसंद करता है और इसके साथ वायरलेस डेटा Transmission का भी इस्तेमाल करता है।
    BTC ka full form क्या  है ? 

    wifi अपने एक्सेस प्वाइंट के आसपास सभी मोबाइल फोन को एक wireless नेटवर्क Provide करके काम करता है। इस Technology की सबसे बड़ी विशेषता यह है कि इसकी गति सामान्य service प्रदाताओं द्वारा प्रदान की जाने वाली गति से बहुत तेज होती है इसलिए इसका use ज्यादार किया जाता है।

    Wifi  के आविष्कारक (Wifi Inventor )

    डॉ। John O'Sullivan एक ऑस्ट्रेलियाई Electrical इंजीनियर हैं। जिसके कारण उनका एक आविष्कार प्रमुख Technology में भागीदारों के साथ हुआ। जिसने वायरलेस LAN को तेज और विश्वसनीय बना दिया।

    WiFi Ka Full Form
    Wikipedia 


    इस  Technology का आविष्कार 1994 में CSIRO द्वारा किया गया था। और इसमें 802.11a , 802.11g, और 802.11n वाई-फाई Standard के अंश शामिल थे। और इस प्रकार ओ'सूलीवन को भी वाईफ़ाई का आविष्कार करने का श्रेय दिया जाता है।

    WiFi का इतिहास  (History Of wifi )


    जब United State  FCC ने घोषणा की कि वायरलेस फ्रीक्वेंसी 900 मेगाहर्ट्ज 2.4 GHz और 5.88 GHz  का use बिना किसी licence के कर सकता था।  जब से फिर wifi को बनाने की प्रकिर्या start हुई। इसका इतिहास तब शुरू किया गया जब यह बिना licence के इस नेटवर्क का Use कर सकता था।

     पहले माइक्रोफ़ोन जैसे घरेलू उपकरणों में wifi Bands  का उपयोग किया गया था क्योंकि यह माना जाता है कि उस time  में इनका use बिलकुल सिमित था।  उपयोग ज्यादातर अभी तक विशेष नहीं है। अधिकांश Technology में कोई भी उपयोग नहीं करता है। इसलिए इस Bands को प्रयोग करने लायक बनाने के लिए, FCC ने इसका उपयोग करना अनिवार्य कर दिया। इस (Spread Spectrum Technique) का नाम दिया।

    IFS  का फुल फॉर्म क्या है 

    1944 में spread Spectrum Technology के license लिया। license लेने के पहले ही George Anthill और Hedy  Lamar इस तकनीकी में सिंग्नल को Multiple Frequencies के साथ भेजा था। इस technology के बाद wireless सिग्नल्स में बहुत ज्यादा improvement देखने को मिला। 

    उस समय एक  technology का विकास हो रहा था। जिसका नाम था wlan जिसमे बहुत सारी technical issu थे।  wlan का कोई standard नहीं था।  उस समय में  किसी एक कंपनी का स्वय का product नहीं था।  जिसके कारण अलग -अलग company के device को जोड़ने में बहुत ज्यादा problum होती थी। 

    victor Hayes और Bruce Tuch इन दोनों के सहयोग से institute ऑफ़ Electrical and Electronic Engineers  (IEEE) को और अधिक standard  बनाने के लिए institute से गुजारिश की।  उसके बाद  1997 में एक standard तैयार किया गया।  जिसका नाम रखा गया "801. 11 " 1997 में इसको lanch किया गया।  

    802. 11 standrad में data transfer करने की स्पीड करीब 2 MB पर सेकंड थी।  उसके बाद 1999 में इसका दूसरा varsion 802. 11a को lanch किया गया।  इसकी स्पीड करीब 50 -55 MB  पर सेकंड थी।  उसरा varsion काफी महंगा था इसलिए फिर इसका दूसरा संस्करण बनाया गया।  जिसका नाम रखा गया 802. 11b इस technology के शुरुआत हुई wifi technology की  यह संस्करण network की range भी अच्छी थी और काफी सस्ता भी था।  

    2002  में wifi शब्द  wireless और एक शब्द Hi -Fi से लिया गया जिसका नाम wi -fi  से Wi Fi Alliance के नाम से जाना जाने लगा। का इतिहास फायदे 

    Wifi के फायदे (Advantage OF WiFi )

    वायरलेस Network की लोकप्रियता मुख्य रूप से उनकी सुविधा, लागत, और अन्य Network और Network घटकों के साथ जुड़ने में आसानी के आसानी होती है । आज Users को बेचे जाने वाले अधिकांश कंप्यूटरों में सभी आवश्यक वायरलेस LAN तकनीक है।

    सुविधा - (Facility)


    लैपटॉप डिजाइन कंप्यूटर की बढ़ती संख्या के साथ, यह विशेष रूप से योग्य है। जैसे (घर या कार्यालय में)।

    चलते वक्त - (While walking)

    सार्वजनिक रूप से वायरलेस नेटवर्क के विकास के साथ, Users को अपने सामान्य कार्य वातावरण के बाहर Internet का अच्छी तरह से उपयोग कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, कॉफी शॉप, Libary Hotal , कॉलेज बस रेल अपने Users को कम या बिना लागत वाले Internet से वायरलेस Connection प्रदान करते हैं।

    उत्पादकता - (Productivity )

     एक Wireless Network से जुड़े Users  अपने वांछित नेटवर्क के साथ लगभग निरंतर स्थिरता बनाए रख सकते हैं। क्योंकि वे एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाते हैं। एक व्यवसाय (business)के लिए, इसका मतलब है कि एक कर्मचारी (Staff ) संयोग से अधिक उत्पादक हो सकता है क्योंकि उसकी नौकरी (Job ) किसी भी सुविधाजनक स्थान से पूरी होती है।

    UPSC का फुल फॉर्म क्या है 

    विकास - (Devlopment )

    आधारभूत संरचना आधारित Wireless Network के शुरुआती सेटअप के लिए सिंगल एक्सेस प्वाइंट की तुलना में बहुत कम की आवश्यकता होती है। दूसरी ओर, Wired  Network में वास्तविक महत्वपूर्ण Cabal की अतिरिक्त लागत और जटिलता कई स्थानों पर चलाई जा रही है।

    लागत- (Cost )

    वायर्ड Network की तुलना में वायरलेस Networking हार्डवेयर सबसे सरल तकनिकी है। यह संभावित रूप से बढ़ी हुई लागत भौतिक Cabal को चलाने के साथ जुड़े लागत और प्रयास में अधिक बचत की ओर ले जाती है।

    Wi-Fi के नुकसान (Disadvantage Of Wi-Fi )

    सुरक्षा (security )


    Security का मुकाबला करने के लिए, Wireless Network उपलब्ध विभिन्न Encryption तकनीकों में से कुछ का उपयोग कर सकते हैं। आमतौर पर उपयोग किए जाने वाले Encryption विधियों में से कुछ, हालांकि, कमजोरियों (Weaknesses) के लिए जाना जाता है। तो आप अपने wifi की security मजबूत रखें।

    Google का फुल फॉर्म क्या है आप क्या जानते है गूगल के बारें में 

    रेंज (Rang)

    आमतौर पर कुछ standard उपकरणों के साथ 802.11 जी नेटवर्क की विशिष्ट Rang 10  मीटर के क्रम पर होती है। घर के लिए पर्याप्त है, यह एक बड़ी संरचना में बहुत कम होगा। अतिरिक्त Rang प्राप्त करने के लिए, रिपीटर्स या अतिरिक्त Access points खरीदने की आवश्यकता होती है। 

    गति (Speed )

    अधिकांश Wireless Network (1–100 MBPS पर) की गति सबसे धीमी है। एक सामान्य वायर्ड Network की तुलना में speed धीमी (100 Gbps से कई Gbps)। हालांकि, विशेष वातावरण में, एक वायर्ड Network की आवश्यकता हो सकती है।

    wifi का फुल फॉर्म watch Video 



    विशेष (Conclusion )

     हमारा पोस्ट wifi ka full form , wifi क्या है।  wifi का इतिहास क्या है।  और wifi के फायदे और नुकसान होते है।  आपको पसंद आया होगा हमें comment करके बताये की आपको post कैसे लगा। 


    Post a Comment

    0 Comments